रविवार, 6 मई 2018

मेरी कुण्डली कैसे सच बोली है -भाग -9 -पढ़ें ? झा "मेरठ "

किसी व्यक्ति को कौन सा रोग होगा ,किससे शत्रुता होगी या फिर नाना का सुख कितना मिलेगा की जानकारी करनी हो तो जन्मकुण्डली के षष्ठम {छठा }भाव से करनी चाहिए | ----अस्तु --मेरी जन्मकुण्डली के छठे भाव में मकर राशि है -इसका स्वामी शनि भाग्य स्थान में नीच का अकेला विराजमान है साथ ही इस छठे भाव पर किसी भी ग्रहों की समुचित दृष्टि नहीं पड़ती है --इसका अर्थ हुआ -हमें केवल वायु रोग हो सकता है | शत्रुता विशेष होगी यानि मित्रता निभेगी नहीं किसी से --साथ ही नानाजी का सुख हमें नहीं मिलेगा ये सारी बातें सच हैं | मैं किसी भी शत्रु का सामना नहीं कर पाता हूँ किन्तु जहाँ शनि होते हैं लाभ मिलता है अतः बिना लड़े मुझे जीत मिलती है | आजतक मुझे कोई रोग नहीं हुआ पर --चोट अनायास लगती रहती है इस कारण वायु रोग से मैं पीड़ित रहूँगा | मैंने अपने नानाजी को नहीं देखा किन्तु भाग्यस्थान में शनि होने के कारण ननिहाल एक सुखी परिवार है जिसका लाभ तो मुझको नहीं मिलेगा पर वो लोग सुखी हैं ये बिल्कुल बात सच है | लग्न में मंगल होने से अग्निभय ,चोट और रक्त सम्बंधित रोग का कुछ -कुछ प्रभाव मेरे ऊपर रहता है पर लग्नेश सूर्य के साथ मंगल है अतः हमें हानि नहीं पंहुचाते हैं | ----यहाँ यह ध्यान देने वाली बात है ---कुण्डली का छठा भाव पर जैसे ग्रहों के प्रभाव होंगें, प्रत्येक व्यक्ति  को उसी अनुपात रोग ,शत्रु और मातृपक्ष का सुख भी मिलेगा ---आगे की चर्चा आगे करंगें | ---फ्री ज्योतिष सेवा प्रत्येक शाम 8 से 9 रात्रि तक उपलब्ध रहती है । कोई भी व्यक्ति एकबार इस ज्योतिष फ्री सेवा का लाभ सकते हैं । इसके लिए पहले इस पेज -Astro world Hindi service--.https://www.facebook.com/kanhaiyalal.jhashastri फ्री सेवा एकबार सबको मिलेगी -ज्यतिषी झा मेरठ" को पसंद {लाइक } करें । फिर केवल संदेश बॉक्स{इनबॉक्स } में ही राम राम शब्द लिखें -जबाब राम रामजी के साथ हेल्प नंबर पर तत्काल सेवा प्राप्त करें । ध्यान दें अन्यत्र राम राम शब्द लिखने पर सेवा नहीं मिलेगी , साथ ही सेवा प्राप्त करने वाले अपनी फोटो अवश्य प्रोफाइल में रखें ।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

-आपका एस्ट्रो वर्ल्ड हिन्दी सर्विस झा "मेरठ "

ज्योतिष की सभी सेवा अनिश्चित काल तक अनुपब्ध रहेगी -झा "मेरठ "

सभी ज्योतिष प्रेमियों ,साथ ही मेरे पेज से, समूहों से जुड़ें और मैं अपने समस्त मित्रों को सादर नमन करता हूँ | कृपया ध्यान दें -सभी दिन एक जै...