गुरुवार, 3 मई 2018

मेरी कुण्डली सच बोली है -भाग -6 -पढ़ें ? झा "मेरठ "

"यदि हमें भाई -बहिनों की संख्या किंतनी है या कैसा इनसे सम्बन्ध रहेगा अथवा किसी व्यक्ति का प्रभाव क्षेत्र कैसा रहेगा कि जानकारी करनी हो तो प्रत्येक व्यक्ति की जन्मकुण्डली के तृतीयभाव से ज्योतिष गणना के द्वारा जान सकते हैं | ---अस्तु ---मेरी कुण्डली के तीसरे घर में तुला राशि है और यहाँ गुरुदेव विराजमान है -इसका मतलब हमसे बड़ी बहिन होनी चाहिए -ये सच है | गुरु के विराजमान होने से मैं ही बड़ा भाई हूँ साथ ही भाइयों की संख्या बहिन से विशेष रहेगी तो यह भी सच है हम दो भाई एक बहिन हैं | अब शुक्र के घर में गुरु हैं तो हमसे किसी की नहीं बनेगी साथ ही दो एक तरफ होंगें अकेला मैं एक ओर रहूँगा यह भी सच है | यहाँ एक बात और देखनी है इस तृतीयभाव पर कौन -कौन से ग्रह विशेष दृष्टि डाल रहे हैं --हमने पाया --शनि की पूर्ण दृष्टि है तृतीय भाव पर शनि नीच का है साथ ही जहाँ गुरु होते हैं वहां हानि होती है- तो हमें किसी की मदद नहीं मिली साथ ही सूर्य की भी दृष्टि है तो हमसे सभी भाई बहिन को फायदा होगा किन्तु हमें नहीं लाभ मिलेगा | एक और बात जब -जब शनि का अंतर आएगा गुरु में तब -तब किसी न किसी परिजनों की क्षति होगी यह भी सच है ---एक मेरे जैसा ज्ञानी पुरुष को आजीवन परिजनों से नहीं बनी, एक शहर में होते हुए भी अलग -अलग रहते हैं इतना ही नहीं किसी की शक्ल नहीं देखी होगी कभी | यही बात मेरे पराक्रम के लिए भी सटीक उतरी है --एक सक्षम व्यक्ति होते हुए भी किसी भी कार्य में में दक्षता नहीं मिली | कार्य अनन्त किये ,पढ़ाई अनेक प्रकार की की ,पर प्रधान पद पर आसीन नहीं हो सके | हमने कभी भी किसी व्यक्ति से लाभ की उम्मीद न तो रखी है न ही रखतेहैं बल्कि किसी को देने में विस्वास रखते हैं | एक और बात है जो मुझको आजीवन खलती रहती है --अपने परिजन हों या सगे -सम्बन्धी सभी मुझको धन की वजह से जानते हैं न कि ज्ञान की वजह से | ---अंत में हमने पाया यह दोष मेरे पूर्व अर्जित कर्म का है --यही तो ज्योतिष है जो आपकी सच्चाई को उजागर कर देती है आप चाहे कितने परदे के अंदर रहो ----फ्री ज्योतिष सेवा प्रत्येक शाम 8 से 9 रात्रि तक उपलब्ध रहती है । कोई भी व्यक्ति एकबार इस ज्योतिष फ्री सेवा का लाभ सकते हैं । इसके लिए पहले इस पेज -Astro world Hindi service--.https://www.facebook.com/kanhaiyalal.jhashastri फ्री सेवा एकबार सबको मिलेगी -ज्यतिषी झा मेरठ" को पसंद {लाइक } करें । फिर केवल संदेश बॉक्स{इनबॉक्स } में ही राम राम शब्द लिखें -जबाब राम रामजी के साथ हेल्प नंबर पर तत्काल सेवा प्राप्त करें । ध्यान दें अन्यत्र राम राम शब्द लिखने पर सेवा नहीं मिलेगी , साथ ही सेवा प्राप्त करने वाले अपनी फोटो अवश्य प्रोफाइल में रखें ।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

-आपका एस्ट्रो वर्ल्ड हिन्दी सर्विस झा "मेरठ "

शिव की विशेष पूजा कैसे करें -पढ़ें !" झा मेरठ "

भगवान शिव की आराधना नित्यप्रति करनी चाहिए ,उसमें भी श्रावण मास हो तो कुछ विशेष आराधना से विशेष प्राप्ति संभव है | अस्तु - ---भोलेनाथ की व...