गुरुवार, 4 जनवरी 2018

ज्योतिष की दृष्टि में विश्व की स्थिति 2018 -पढ़ें -झा "मेरठ "

ज्योतिष की दृष्टि में विश्व की स्थिति 2018 -पढ़ें -झा "मेरठ "
-14 /04 /2018 को दिन में भगवान भास्कर अश्विनी नक्षत्र मेष राशि में गमन करेंगें | उस समय वृष लग्न की कुण्डली में लग्नेश शुक्र सुखेश सूर्य के साथ खर्च भाव में है साथ ही आय भाव का स्वामी गुरु के साथ सम्बन्ध बना लिया है | नववर्ष ग्रहों के चयन में शुक्र मेघपति एवं दुर्गपति चुने गए हैं | कुण्डली में केंद्र से बाहर शक्तिविहीन दुर्गेश किला की क्या रक्षा करेगा बल्कि कोई दूसरा देश जमीन हड़पने का प्रयास करेगा तो यह शुक्र उसकी मदद करेगा | --शुक्र स्वभाव से स्त्रीकारक ग्रह है सो यह तामस प्रवृति वालों की भरपूर मदद करेगा | --विश्व लग्न वृष का फलादेश के बारे में एक प्रमाण देखें ---वृषे पिपश्चि मेकालः पूर्वस्यां राजविग्रहः ,उदगधनयार्ध निष्पत्तिर्द क्षिणस्यां विकालतः "----इस "वृषप्रबोध" नामक ग्रन्थ में फलादेश लिखा है ---कि पश्चिम दिशा में काल कलवित नरसंहार यानि भारी विनाश होगा | पूर्व दिशा में -राजविग्रह होगा |  उत्तर दिशा में -तूफान ,बडंबर से हानि होगी तथा दक्षिण दिशा में -अकाल पड़ेगा साथ ही स्थिति उत्तम नहीं रहेगी --विश्व की | ----एक और प्रमाण देखें --"रविसुते यदि मंत्रिणी पार्थिवा विनय संरहिता बहु दुःखदा ,न जलदा जलदा जनतापदा जनपदेषु सुखं न धनं क्वचित "-----अर्थात विश्व कुण्डली में जब वर्ष के राजा सूर्य सुख के स्वामी होकर खर्च भाव में बैठा हो ,इस वर्ष सूर्य ,शुक्र ,गुरु ,मंगल और शनि पांचों प्रमुख ग्रह त्रिक स्थान में बैठे सही नहीं हों तो सम्पूर्ण संसार की सोच में कमी आयेगी | अन्तर्राष्ट्रीय विश्व समुदाय में उग्रवाद ,अपनतव परिपूर्ण संहारात्मक प्रवृत्ति को बल मिलेगा | जहाँ -तहाँ सभी जगह चोरी ,अग्निभय अन्य बाधाएं यानि नाना प्रकार के दुःख सताएंगें | विश्व के राष्ट्रनायक सही समझ को स्वीकार नहीं करेंगें | दूसरों को दुःख देने में सुख का अनुभव करेंगें | कोई प्रभावी नायक नष्ट हो सकता है | -आप चाहे बालक हों ,युवा हों ,गृहस्थ हों चाहें बुजुर्ग हों ! सभी के योग्य यह पेज https://www.facebook.com/kanhaiyalal.jhashastri है-- साथ ही एकबार फ्री ज्योतिष सेवा प्राप्त करें -आपका एस्ट्रो वर्ल्ड हिन्दी सर्विस " {मेरठ -भारत }संचालक -पंडित -के ० एल ० झा शास्त्री {शिक्षा -दरभंगा ,मेरठ ,मुम्बई }-

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

-आपका एस्ट्रो वर्ल्ड हिन्दी सर्विस झा "मेरठ "

शिव की विशेष पूजा कैसे करें -पढ़ें !" झा मेरठ "

भगवान शिव की आराधना नित्यप्रति करनी चाहिए ,उसमें भी श्रावण मास हो तो कुछ विशेष आराधना से विशेष प्राप्ति संभव है | अस्तु - ---भोलेनाथ की व...