सोमवार, 13 नवंबर 2017

आप बीती पर है सच्ची -मेरी आत्मकथा "झा -मेरठ "भाग -{32}

--अपनी जीवनी की अंतिम बातों को कहकर शब्दों को विराम देना चाहता हूँ | -जो मुझको जीवन में दुःख मिला यह मेरा प्रराब्ध था | जो मुझको सुख मिला या मिल रहा है यह भी मेरा कर्तव्य का परिणाम है | यद्यपि मैं सरकारी मान्यता प्राप्त भले ही एक शिक्षक नहीं बन पाया या एक उत्तम गायक नहीं बन पाया या एक पत्रकार नहीं बन पाया -पर एक शिक्षक की तरह से आपलोगों को सदा पढ़ाने की कोशिश की है ,जो भी भजनों को सुनाया है वो गायकी के लिए नहीं बल्कि परमात्मा को प्रसन्न करने के लिए सुनाया है | आपलोगों के स्नेह के कारण  मैं भले ही अखबारों या चैनलों का पत्रकार नहीं बन पाया पर आपलोगों का भी मैं उत्तम पत्रकार हूँ | --ध्यान दें ---मेरे पास आज जितने संसाधन हैं सब परमात्मा की कृपा से है --कम से कम एकबार मैं किसी के काम आ सका तो मेरा जीवन धन्य होगा यही सोचकर सेवा करता हूँ | ---जो सेवा निःशुल्क हम दे रहे हैं -वो मेरी सोच है -जो धन हम विज्ञापन में खर्च करेंगें उन पैसों से आपतक ऐसी सेवा देकर पंहुचा जा सकता है | अगर मेरे जीवन में राहु बाल्य काल में न आया होता तो बुढ़ापा में आता- तो अच्छा हुआ जीवन की शुरुआत ही दुःखद रही आगे तो सुख मिलेगा | यह जीवन की लीला है प्रत्येक व्यक्ति को दुःख और सुख दोनों भोगने होते हैं | आज मेरे जैसा सौभाग्यशाली कौन होगा जिसको भोजन ,वस्त्र और भवन के सुख नहीं मिले उसको परमात्मा ने आधुनिक सभी संयन्त्रों का सुख दे रखा है | एक दुःख है -मेरठ मेरी कर्म भूमि है --अगर हम अपनी  कर्म भूमि का नाम विख्यात कर पाए तो मेरा जीवन धन्य हो जायेगा | अगर हम अपनी मातृभूमि मिथिला को सुखद उपहार दे पाए तो मेरा जीवन धन्य हो जायेगा | मेरी ज्योतिष निःशुल्क सेवा सच्चे मन से है जबतक लेखनी चलती रहेगी सेवा मिलती रहेगी | बहुत से लोग ये सोचते हैं सेवा लेने के बाद पेज को नापसंद करदेंगें --इससे क्या होगा -आप पेज को लाइक करें या न करें हम आपके दिलों को पसंद आना चाहते हैं न कि पेज पर --आप सभी लोगों ने मेरी जीवनी पढ़ी -आशा है -अपना -अपना धैर्य बनाये रखें साथ ही आप सभी ही तो मेरे परिवार हैं ---किसी के दो भाई और एक बहिन होती है मेरे तो अनंत भाई -बहिनें हैं आप सभी को मेरा नमन ---आपका पण्डित कन्हैयालाल झा शास्त्री -किशनपुरी धर्मशाला देहली गेट मेरठ सहायता सूत्र --09897701636 +09358885616फ्री ज्योतिष एकबार सेवा हेतु यहाँ पधारें ----https://www.facebook.com/kanhaiyalal.jhashastri

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

-आपका एस्ट्रो वर्ल्ड हिन्दी सर्विस झा "मेरठ "

शिव की विशेष पूजा कैसे करें -पढ़ें !" झा मेरठ "

भगवान शिव की आराधना नित्यप्रति करनी चाहिए ,उसमें भी श्रावण मास हो तो कुछ विशेष आराधना से विशेष प्राप्ति संभव है | अस्तु - ---भोलेनाथ की व...