शनिवार, 21 अक्तूबर 2017

आप बीती पर है सच्ची -मेरी आत्मकथा "झा -मेरठ "भाग -{28}


2012 -यह वर्ष मानों मानों तमाम खुशियों की सौगात लेकर आया | हमने एक शलाइड शो नेट पर बनाया जिसकी मुझको भी जानकारी नहीं थी ----अस्तु --अमेरिका से एक फोन आया सुनीता अरोड़ा जी का जो केश सज्जा का काम करती थी -उन्होंने मेरी तारीफ के पूल बना दिए -बोली क्या फिल्म बनाई है आपने ,मैं अपने सभी अमेरिकन साथियों को बता रही हूँ कि मेरे यहाँ के शास्त्री ऐसे होते हैं | लगभग 2 घंटे तक बात होती रही--इस प्रोत्साहन के बदले हमने उनके परिवार की समस्त ज्योतिष की जानकारियां और सलाह दी | मुझको ऐसा लगने लगा हम सही राह चल रहे हैं क्योंकि मैं तो अंग्रेजी दुनिया से अनभिज्ञ था इसी तरह मुझको राह मिलती गई | हमने 5000 मित्रों का कोटा पूरा कर लिया फेसबुक पर साथ ही लगभग 120 साइडो पर जुड़ा -जैसे -आईबीबो ,एच आई 5 ,लिंकेड ,ट्वीटर ,ब्लॉगर ,हॉटमेल ,जीमेल ,याहू ,जिरोपीय ,ऑरकुट -स्काईप -इत्यादि | हम सोचने लगे जिन मित्रों को एकबार फ्री सेवा दे चुके हैं उनको दोस्ती से हटाकर उनको मौका दें जिनको सेवा नहीं मिली है | इसका नतीजा यह निकला फेसबुक ने हमारी ज्योतिष सेवा सदन प्रोफाइल को पेज बना दिया | अब हम अकचका गए क्योंकि कोई गुरु नहीं थे जिनसे पूछता था वो कहते थे हिन्दी नहीं अँग्रेजी में बता सकता हूँ --मैं सोचने लगा -उत्तर प्रदेश हिन्दी भाषी लोग, हिन्दी ही मातृभाषा ,पर हिन्दी में नहीं बता सकते तो कौन बतायेगा | इतने में फेसबुक की ओर से फ़ोन आया -कोई मुसलिम व्यक्ति जम्मू के रहने वाले थे मुम्बई से बोल रहे थे | इन्होने भी मेरी बहुत तारीफ की -आप बहुत अच्छा काम कर रहे हैं -कुछ पैसा खर्च करके और भी अच्छा कर सकते हैं --पर हम पैसा खर्च करके नाम नहीं कमाना चाहते थे | अतः दूसरी प्रोफाइल बनाई -ज्योतिष विभाग झा मेरठ | मेरे मन में एक बात आयी -सेवा पेज पर दें -इससे सभी व्यक्तियों को एकबार सेवा का लाभ मिल सकता है साथ ही अभी तक हम मुर्ख बन रहे थे सेवा देने के बाद तो अब नहीं बन पायेंगें -जब भी कोई व्यक्ति यह कहेगा सेवा नहीं मिली है तो उनका सन्देश यह साबित करेगा कब सेवा ली | -अब हमने 100 रूपये शुल्क का रख दिए -फ्री सेवा के बाद सेवा का शुल्क 100 रूपये दें | साथ ही आजीवन शुल्क -500 रूपये --यह सेवा इतनी जची लोगों को कि हमें यह सेवा बंद करनी पड़ी -क्योंकि मेरा उदेश्य पैसा नहीं नाम कमाना था | इतने लोगों ने पैसे दिए कि अंत में हमने सभी से अनुरोध किया जिन्होंने 500 दिए हैं उनको 3 वर्ष फ्री सेवा मिलेगी या अपने -अपने पैसे वापस ले लें | पर भारतीय लोग बड़े ही दयालु होते हैं किसीने न तो पैसे लिए न ही कुछ कहा हम इसके लिए आभार व्यक्त करना चाहते हैं | अब हम अखबार में आना चाहते थे -मेरठ के जनवाणी ,अमरउजाला ,दैनिक जागरण सभी जगह गए पर इन्होंने मुझको इस योग्य नहीं समझा | हम उदास हो गए, साथ ही हमारा कम्प्यूटर बेकार हो गया | फिर मेरे आराध्य गुरु सरकार ने मानों फिर से जगाया बोले -श्री अटलबिहारी बाजपेयीजी को प्रधान मन्त्री बनने के लिए 50 वर्षों तक प्रतीक्षा करनी पड़ी -जबकि योग्य व्यक्ति थे ,भले ही कोई पद नहीं था पर सबके दिलों में राज करते थे | इनको  नेहरूजी ने कहा था एकदिन तुम प्रधानमंत्री बनोंगे -और बने यह मेरा प्रत्यक्ष उदाहरण था | ----अतः फिर से हम जागे --आगे की चर्चा कल करेंगें | ज्योतिष की फ्री सेवा एकबार प्राप्त करने के लिए --पेज का नाम है -एस्ट्रो वर्ल्ड हिन्दी सर्विस -झा -मेरठ-https://www.facebook.com/kanhaiyalal.jhashastri- इस पेज के सन्देश बॉक्स में राम राम केवल लिखना होता है उसके बाद आपको जो सहायता सूत्र मिलता है उस सहायता सूत्र पर आपको फ़ोन करना पड़ता है -समय होता है -रात्रि 8 से रात्रि 9 के बीच का |

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

-आपका एस्ट्रो वर्ल्ड हिन्दी सर्विस झा "मेरठ "

श्री गुरुजी और राजा हरिसिंह की ऐतिहासिक भेंट-पढ़ें-ज्योतिषी "झा"{मेरठ}

“हर दिन पावन-”-17 अक्तूबर/इतिहास-स्मृति-श्री गुरुजी और राजा हरिसिंह की ऐतिहासिक भेंट15 अगस्त, 1947 का दिन स्वतन्त्रता के साथ अनेक समस्या...