शुक्रवार, 6 अक्तूबर 2017

आप बीती पर है सच्ची -मेरी आत्मकथा "झा -मेरठ "भाग -{1}

-मेरे आराध्य पिता आज भी उपस्थित हैं --मुझसे मेरे पिता क्यूं महान हैं -जानना चाहेंगें तो -सुनिये ! मेरे पिता का लालन -पालन -दादाजी ने बड़े गर्व से किया | मल्ल युद्ध सिखाया और अपनी सुरक्षा हेतु सदा अपने इर्द -गिर्द रखा | जब हम जैसे नन्हें -मुन्ने आये तो लालन -पालन करने में बड़ी कठिनाई हुई क्योंकि समय बदल चुका था साथ ही दादाजी का साम्राज्य  समाप्त हो चूका था | शिक्षा थी नहीं ,बाहरी दुनिया का पत्ता था ही नहीं -इसलिए मुझको शिक्षा विद बनाना ही मकसद था | पर धन होते हुए भी -धन चोर ले गए ,कुछ बाढ़ के कारण खेत वह गए- तो कैसे उत्तम शिक्षा पुत्र को मिले यह सोचकर एक दिन एक संस्कृत आश्रम में मुझको छोड़ आये | पिता के आने के बाद उस आश्रम में सर्वप्रथम मुझको 50 लोगों का भोजन बनाने का काम मिला उम्र थी मेरी -13 वर्ष -क्योंकि मेरे पिता ने 500 रूपये शुल्क जमा नहीं किये थे |जब हम थक जाते थे तो 5 गायों को चराने का काम मिलता था ,जब हम फिर थक जाते थे तो सभी बर्तनों को सुवह -शाम मांजने का काम मिलता था | शिक्षा कम यातनाएं अत्यधिक थी जैसे -गायों को चराते -चराते मेरे पैरों में बरसात के समय बिना चप्पल होने के कारण तलवों में गड्ढे  होने से असहनीय दर्द होता था फिर न तो दवाई मिलती थी न कोई पूछता ही था -तो हमने मरने का सोचा क्योंकि घर की दयनीय स्थिति जो लाचार था और आश्रम में शुल्क नहीं देने के कारण तमाम कठिनाइयों को सहना ही एक रास्ता था | ---1983 से 1988 तक इस आश्रम- नाम -जगदीश नारायण बर्ह्मचर्या आश्रम लगमा जिला दरभंगा {बिहार }में रहा | यहाँ हमने रुद्राष्टाध्यायी ,लघुसिद्धांत कौमुदी ,जैसे ग्रंथों के मन्त्रों और सूत्रों को कंठस्थ कर लिया भले ही किसी -किसी मन्त्र का भाव नहीं समझा हो | --यहाँ मैं ये बताना चाहता हूँ कि कोई भी पिता अपने पुत्र को इतनी तकलीफ में नहीं देख सकते --आज मैं भी पिता हूँ पर अपने पुत्र को सुखद शिक्षा दे सकता हूँ दुःखद नहीं | अतः मेरे पिता महान हैं जो उन्होंने मुझको बनाया वो आज हम अपने पुत्र को नहीं बना सकते हैं | --आपका एस्ट्रो वर्ल्ड हिन्दी सर्विस झा "मेरठ "-दोस्तों आप भी अपनी -अपनी राशि के स्वभाव और प्रभाव को पढ़ना चाहते हैं या आपकी राशि पर लिखी हुई बातें मिलतीं हैं कि नहीं परखना चाहते हैं तो इस पेज पर पधारकर पखकर देखें - https://www.facebook.com/kanhaiyalal.jhashastri

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

-आपका एस्ट्रो वर्ल्ड हिन्दी सर्विस झा "मेरठ "

श्री गुरुजी और राजा हरिसिंह की ऐतिहासिक भेंट-पढ़ें-ज्योतिषी "झा"{मेरठ}

“हर दिन पावन-”-17 अक्तूबर/इतिहास-स्मृति-श्री गुरुजी और राजा हरिसिंह की ऐतिहासिक भेंट15 अगस्त, 1947 का दिन स्वतन्त्रता के साथ अनेक समस्या...